सामान्य ज्ञान प्रश्नावली 28 दिसंबर 2020

General Knowledge Questionnaire 28 December 2020

1-केंद्र सरकार राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के साथ 2020 शहरी समृद्धि उत्सव के लिए विचार-विमर्श कर रही है, इसका उपयोग सरकार की किस पहल के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए किया जायेगा? 

उत्तर- दीनदयाल अन्त्योदय 
अभियान दृ राष्ट्रीय शहरी आजीविका अभियान शहरी समृद्धि उत्सव का आयोजन सरकार द्वारा दीनदयाल अन्त्योदय अभियान दृ राष्ट्रीय शहरी आजीविका अभियान (DAY-NULM) के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए किया जाता है। इस इवेंट के द्वारा स्वयं सहायता समूहों को विभिन्न सरकारी योजनाओं से जोड़ने में सहायता मिलेगी।

2-हाल ही में केंद्र सरकार ने वय वंदना योजना के लिए आधार लिंकिंग को अनिवार्य किया है, इस योजना के लाभार्थी कौन हैं?

उत्तर – वरिष्ठ नागरिक
प्रधानमंत्री वय वंदना योजना वरिष्ठ नागरिकों के लिए एक पेंशन योजना है। इस योजना में 60 वर्ष या इससे अधिक के लोगों को कवर किया जाता है। सरकार ने हाल ही में इस योजना के लिए आधार लिंकिंग को अनिवार्य किया है।

3-राष्ट्रीय जनजातीय नृत्य उत्सव का आयोजन किस शहर में किया जा रहा है?

उत्तर – रायपुर
राष्ट्रीय जनजातीय नृत्य उत्सव का आयोजन छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में किया जा रहा है। इसमें 25 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों से 1300 से अधिक प्रतिभागी हिस्सा ले रहे हैं। इसके अलावा इस उत्सव में बांग्लादेश, श्रीलंका, बेलारूस, मालदीव, थाईलैंड और यूगांडा के कलाकार भी हिस्सा लेंगे।

4-किस देश ने बड़ी टेक कंपनियों पर 2020 से 3% डिजिटल कर लगाने का निर्णय लिया है?

उत्तर – इटली
इटली ने हाल ही में गूगल और अमेज़न जैसी बड़ी कंपनियों पर 2020 से 3% डिजिटल कर लगाने का निर्णय लिया है। यह फ्रांस के GAFA कर (गूगल, अमेज़न, फेसबुक और एप्पल) की तरह है। इटली का यह नया कर 1 जनवरी, 2020 से लागू होगा।

5-हाल ही में कौन सा लड़ाकू विमान सेवानिवृत्त हुआ जिसे बहादुर नाम से जाना जाता है?

उत्तर – मिग 27
भारतीय वायुसेना ने मिग 27 के फ्लीट को सेवानिवृत्त कर दिया है। इस लड़ाकू विमान को सोवियत संघ द्वारा विकसित किया गया था, भारत में इसका निर्माण हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड द्वारा किया जाता था। मिग 27 को “बहादुर” नाम से भी जाना जाता है, इस लड़ाकू विमान ने कारगिल युद्ध में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।
CSIR ने जेरेनियम उत्पादन की नई तकनीक विकसित की

वैज्ञानिक व औद्योगिक अनुसन्धान परिषद् (CSIR) ने जेरेनियम पौधों के उत्पादन के लिए नई कम लागत वाली तकनीक क्विक्सित की है। जेरेनियम मेंविभिन्न प्रकार के औषधीय गुण पाए जाते हैं। यह विकास अरोमा मिशन के तहत किया गया है।

मुख्य बिंदु


वर्तमान में जेरेनियम की कृषि पालीहाउस में की जाती है। अब इस नई तकनीक की सहायता से जेरेनियम की कृषि बाकी फसलों की तरह खेतों में की जा सकेगी। जेरेनियम की खेती की एक बड़ी समस्या महंगे पौधे हैं। नई तकनीक के कारण जेरेनियम के पौधे आसानी से उपलब्ध हो सकेंगे।

जेरेनियम


जेरेनियम का पौधा मूल रूप से दक्षिण अफ्रीका में पाया जाता है, इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के तेलों में किया जाता है। जेरेनियम के की बिजाई के लिए नवम्बर का माह सबसे उचित समय है। भारत में जेरेनियम की खेती हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और उत्तर-पूर्वी भारत में की जाती है।

अरोमा मिशन


इसका उद्देश्य किसानों की आजीविका की स्थिति में सुधार करना है तथा रोज़गार के अवसरों का सृजन करना है। इस मिशन के द्वारा राज्य में औषधीय व सुगन्धित पौधों की कृषि में वृद्धि होगी।

रूस ने विश्व की प्रथम हाइपरसोनिक परमाणु मिसाइल अवनगार्ड को ऑपरेशनल किया

रूस ने विश्व की प्रथम हाइपरसोनिक परमाणु मिसाइल अवनगार्ड को ऑपरेशनल कर दिया है। पिछले वर्ष किये गये परीक्षण में  हाइपरसोनिक (अतिपराध्वनिक) परमाणु हथियार डिलीवरी सिस्टम “अवनगार्ड” का सफल परीक्षण दक्षिणी यूराल पर्वत में दोम्बारोव्सकी मिसाइल बेस में किया गया था। परीक्षण के दौरान इसने 6000 किलोमीटर दूर स्थित अपने लक्ष्य को कमचटका में कुरा शूटिंग रेंज में अपने लक्ष्य को सटीकता से भेदा था।

अवनगार्ड

अवनगार्ड हाइपरसोनिक ग्लाइड ग्लाइड व्हीकल ध्वनि से 27 गुना तेज रफ्तार से अपने लक्ष्य को भेदता है। इसका निर्माण नए कंपोजिट मटेरियल से बनाया गया है, यह 2000 डिग्री सेल्सियस के ताप को सहने की क्षमता रखता है।  अवनगार्ड जमीन से कई दर्जन किलोमीटर ऊपर वायुमंडल में उड़ान भर सकता है, जिस कारण यह अधिकतर एंटी-मिसाइल डिफेन्स सिस्टम को बायपास कर सकता है। अवनगार्ड की लम्बाई लगभग 5.4 मीटर है, यह 1 मेगाटन तक का परमाणु अथवा पारंपरिक हथियार ले जाने में सक्षम है।

डबल स्टैकर ट्रेन का पहला ट्रायल किया गया

हाल ही में पश्चिमी फ्रेट कॉरिडोर में डबल स्टैकर ट्रेन का ट्रायल रन किया गया। यह ट्रेन राजस्थान और हरियाणा के रिवाड़ी-मदर स्टेशन में चलायी जायेगी।DFCIL (Dedicated Freight Corporation India Limited) वर्तमान में 75 किलोमीटर प्रतिघंटा की गति से मालगाड़ियों का परिचालन कर रहा है। अब इन मालगाड़ियों की गति को 100 किलोमीटर प्रति घंटा किये जाने की योजना है।अभी तक चीन, ब्राज़ील, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, अमेरिका, रूस, दक्षिण अफ्रीका, स्वीडन और नॉर्वे जैसे देशों में डबल स्टैकर ट्रेन चलाई जाती हैं। इन दिनों रेलवे आधुनिकीकरण की ओर कई कदम उठा रहा है। रेलवे में कई प्रशासनिक सुधार भी किये जा रहे हैं।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां